सत्यम्

Just another weblog

169 Posts

51 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12861 postid : 31

भारत और इंडिया का फर्क समझना ही होगा हमें!!

Posted On: 5 Jan, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रवीण गुगनानी,47,टैगोर वार्ड,गंज बैतूल.म.प्र.09425002270guni_pra@rediffmail.com प्रधान सम्पादक दैनिक मत समाचार पत्र

आखिर क्या अंतर है भारत और इण्डिया में??

दिल्ली के दामिनी गेंग रेप काण्ड के बाद पूरा देश अपनी बेटियों की चिंता में झुलस रहा है और नित नए और चित्र विचित्र चर्चा कुचर्चा के सत्रों पर सत्र चलते ही जा रहें हैं. निश्चित ही यह चर्चाएँ और बहसें एक जागृत और जिन्दा समाज की निशानी है. इसी क्रम में चर्चा में हिस्सा लेते हुए जब संघ प्रमुख मोहन जी भागवत ने बात कह दी कि “बलात्कार इंडिया में होते हैं भारत में नहीं” तब बड़ी विचित्र प्रतिक्रियाएं सामने आई. राजनीतिज्ञों और प्रेस के लोगों की प्रतिकिया अच्छी या बुरी हो सकती है यह सामान्य है किन्तु संघ प्रमुख के कथन पर जो प्रतिक्रियाएं आई हैं वे हद दर्जे की हास्यस्पद हैं. संघ प्रमुख हों या संघ का कोई और व्यक्ति जब वह कोई बात कहता है तो कांग्रेस के कुछ ठेकेदार नेता और मिडिया के कुछ चिर स्थाई असंतुष्ट और जन्मजात विघ्नसंतोषी कांग्रेसी सभी मिलकर उसके पीछे ऐसे लग जातें हैं जैसे बिल्ली के पीछे कुत्ते दौड़तें हैं यह सार्वजानिक भारतीय जीवन का एक सुस्थापित तथ्य हो गया है. भारत में संघ के प्रवक्ताओं और उनकें बयानों के प्रति इस प्रकार का रवैया कोई नया और अनोखा नहीं है किन्तु वर्तमान के दुखद परिप्रेक्ष्य में इस आचरण की अपेक्षा भारतीय समाज को नहीं थी.

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने जब यह कहा कि बलात्कार इंडिया में होतें है भारत में नहीं तो क्या गलत कहा? कहना न होगा कि मोहन जी भागवत की इस बात से इस देश का बाल-आबाल, स्त्री-पुरुष, सामान्य- विशिष्ट, लेखक- पाठक, निर्धन-धनवान, उच्च- निम्न वर्ग आदि आदि सभी निस्संदेह सहमत और एकमत होंगें और हैं…. किन्तु इस देश में पिछलें कुछ वर्षों से इलेक्ट्रानिक मीडिया ने सामजिक विषयों पर लाइव बहस के नाम पर जिस वितंडावाद को जन्म दिया है उसके चलते बहसें निष्कर्ष के लिए नहीं बल्कि केवल और केवल प्रपंच और एक वितंडे को जन्म देनें के लिए की जाती है. बहुत कम अवसरों पर ही और कुछ ही टीवी की बहसें सकारात्मक और परिणाम मूलक रह पाती हैं.

हाल ही में चली बहस के सन्दर्भ में यह बात पूछना प्रासंगिक है कि क्या कोई इससे असहमत है कि भारत में दो अलग अलग भारत अस्तित्व में है? क्या कोई इससे असहमत है कि हमारें इस सामान्य समाज के रूप जीवनयापन करता भारत और शाइनिंग इण्डिया वाला भारत एक बेहद अलग स्तर का जीवन जी रहा है?? क्या कोई इससे असहमत होनें की कल्पना भी कर सकता है कि गरीबी से ग्रस्त भारत में जहाँ लगभग चालीस करोड़ लोग एक समय के भोजन से वंचित रहते हैं वहां शाइनिंग इंडिया में भोजन पचाना और और उनकें जेब में पड़ी बेहिसाब दौलत को खर्च करकें ख़त्म करना ही लक्ष्य होता है??? ऐसे अनेक अकाट्य तर्क भारत और इण्डिया की बहस में दिए जा सकते हैं किन्तु उन्हें यहाँ प्रस्तुत करते हुए यहाँ यह चर्चा करना अधिक उपयोगी होगा कि संघ प्रमुख की बात किस परिप्रेक्ष्य में कही और उसके पीछे आशय कितना स्पष्ट और सदाशयी था! बड़ा ही दुखद आश्चर्य होता है जब सदाशय और निर्मल ह्रदय से कही जानें और समाज के लिए दिशामुलक बननें वालें व्यक्तव्यों को तुच्छ राजनीति के चलते छोटी और सीमित सोच वालें राजनीतिज्ञ और मीडिया अनावश्यक बहस में जानबूझ कर झौंक देता है. हमारें बढ़ते और विकासशील समाज और राष्ट्र के लिए यह अच्छा और शुभ संकेत नहीं हैं. सभी जानते हैं कि संघ प्रमुख का व्यक्तव्य पाश्चात्य सभ्यता और प्रतीकों के उपयोग से भारतीय समाज में आये मूल्य ह्रास और गिरावट के लिए कहा गया है. कुछ मीडिया संस्थानों नें मोहन जी की बात पर यह कुतर्क किया कि क्या बलात्कार की घटनाएं नगरीय क्षेत्रों में होती है ग्रामीण क्षेत्रों में नहीं तब यह सुन-पढ़ कर उनकी आलोचना के लिये बहस करनें की मानसिकता उजागर हो गई है. संघ प्रमुख ने यह तो नहीं कहा कि इण्डिया केवल नगरों में है ग्रामों में नहीं! इण्डिया वहां वहां हैं जहां पाश्चात्य मूल्य और जीवन शैली जड़ें जमा चुकी है भारत वहां वहां हैं जहां पारंपरिक भारतीय मूल्य, आदर्श, परम्पराएं और रीति नीति अभी भी पूर्ण या अंश रूप में विद्यमान हैं. संघ प्रमुख के व्यक्तव्य का शुद्ध और शुद्ध आशय भारतीय मूल्यों और आदर्शों के प्रति आग्रह और सम्मान बनाएं रखनें का था जो पूर्ण सुस्पष्ट था. इस बात को एक सामान्य बुद्धि रखनें वाला भारतीय साफ़ साफ़ समझ भी रहा है और संघ प्रमुख के सन्देश को ग्रहण भी कर रहा है. भारत और इण्डिया के अंतर को स्पष्ट करनें के लिए एक कविता भी यहाँ घोर प्रासंगिक और पठनीय है-

भारत में गावं है,गली है, चौबारा है! इंडिया में सिटी है, मॉल है, पंचतारा है!

भारत में घर है, चबूतरा है, दालान है! इंडिया में फ्लैट है, मकान है!

भारत में काका- बाबा है, दादा-दादी है,! इंडिया में अंकल आंटी की आबादी है!

भारत में बुआ-मोसी, बहन है! इंडिया में सब के सब कजिन है!

भारत में मंदिर, मंडप, चौपाल, पांडाल है! इंडिया में पब, डिस्को, डांस के हाल है!

भारत में दूध,दही,मक्खन,लस्सी है! इंडिया में कोक, पेप्सी, विस्की है!

भारत भोला भाला सीधा, सरल, सहज है! इंडिया धूर्त, चालाक, बदमाश, कुटिल है!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

nishamittal के द्वारा
January 5, 2013

सटीक विश्लेषण


topic of the week



latest from jagran